|ABRY| आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022: ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, लाभ व पात्रता

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana Apply Online | आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के लाभ व पात्रता | ABRY Online Registration & Application Form |

देश के औपचारिक क्षेत्र में रोजगार को बढ़ावा देने और नए रोजगार के अवसर के सर्जन को प्रोत्साहित करने हेतु माननीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा 12 नवंबर 2020 को आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया। इस योजना के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था में काफी सुधार आएगा और देश में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से ARBY से जुड़ी संपूर्ण जानकारी स्पष्ट करने जा रहे हैं। जैसे आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022 क्या है, इसके लाभ, विशेषताएं, पात्रता एवं आवेदन की प्रक्रिया क्या है। Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने हेतु हमारे इस लेख को विस्तार पूर्वक पढ़ें।

Table of Contents

Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana

इस योजना को माननीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा उन सभी नागरिकों के लिए शुरू किया गया है जो कोरोना काल के समय नई संस्थाओं में पंजीकृत हुए हैं एवं उनकी आय 15000 रुपये से कम है। इस योजना को आरंभ करने का मुख्य लक्ष्य है कि देश के बेरोजगार युवाओं को आत्मनिर्भर बनाया जाए और संगठित क्षेत्र के कर्मचारियों को अपने भरण-पोषण के लिए किसी दूसरे पर निर्भर रहने की आवश्यकता ना पड़े। Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana का लाभ देश के उन कर्मचारियों को भी प्रदान किया जाएगा जिनके नौकरी 1 मार्च 2020 से लेकर 30 सितंबर 2020 के भीतर चली गई है। इस योजना के तहत नए कर्मचारियों को भर्ती प्रदान करने पर संस्थानों को सब्सिडी मुहैया कराई जाएगी। सरकार द्वारा इस योजना के तहत संस्थानों का 12% एवं कर्मचारियों का 12% कुल मिलाकर 24% संस्थानों को 2 साल तक प्रदान किया जाएगा।

  • इस योजना के माध्यम से देश में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा दिया जाएगा एवं संस्थाएं ने कर्मचारियों को रोजगार के अवसर प्रदान करेंगे।
  • कोरोना काल में नौकरी गंवाने वाले लोगों को इस योजना के तहत सहायता प्रदान की जाएगी।
  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से न केवल देश में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे बल्कि लाभार्थियों को सामाजिक सुरक्षा भी प्रदान की जाएगी।
  • यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा।

ABRY की आवेदन की तिथि का विस्तार हुआ 

ईपीएफओ द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत आवेदन की अंतिम तिथि का विस्तार किया गया है। अब वे सभी लोग जिनकी सैलरी 15000 रुपये से कम है वह इस योजना के तहत आवेदन 31 मार्च 2022 तक कर सकते हैं। केंद्र सरकार द्वारा इस योजना को कोरोनावायरस महामारी के दौरान आरंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से लगभग 40 लाख लोगों को अब तक रोजगार प्राप्त हो चुका है। देश के वह सभी कर्मचारी जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं वह अब 31 मार्च 2022 तक अपना आवेदन कर सकते हैं। इस योजना के माध्यम से कोरोना काल में नौकरी कब आने वाले लोगों को अधिक सहायता प्राप्त होगी।

39.59 लाख लोगों को प्राप्त हुई नौकरियां

ईपीएफओ द्वारा बुधवार यानी 15 दिसंबर 2021 को आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की डेडलाइन बढ़ा दी गई है। इस योजना के तहत डेडलाइंस बढ़ाकर अगले वर्ष मार्च तक कर दी गई हैं। इंदर लायंस का लाभ उन लोगों को प्राप्त होगा जिन्होंने कोरोनावायरस में अपनी नौकरी गवाई है। पहले इस योजना को 2 साल तक बढ़ाया गया था और इसके तहत आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 जून 2021 निर्धारित की गई थी। परंतु इसे फिर आगे बढ़ाया गया और इसके अंतिम तिथि 27 नवंबर 2021 की गई थी। श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री रामेश्वर तेली द्वारा बताया गया कि 27 नवंबर 2021 तक लगभग 39.59 लाख लोगों को नौकरियां प्रदान की गई हैं।

सरकार ने वितरित की 11% लाभ राशि 

सरकार द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत लक्षित राशि का 11% वितरित किया गया। सरकार ने इस योजना को रोजगार पैदा करने के लिए महामारी के दौरान आरंभ किया था। यह योजना सरकार की एक प्रमुख योजना है जिसके तहत 31 मार्च 2024 तक लक्ष्य पूरा किया जाएगा। श्रम और रोज का राज्य मंत्री रामेश्वर तेली ने लोकसभा को घोषणा की के गुजरात और कर्नाटक सबसे अधिक लाभार्थियों वाले राज्यों की सूची है जिसे इस योजना से लाभान्वित किया गया है। अब तक इस योजना के तहत 39,72,551 नए कर्मचारी लाभान्वित हो चुके हैं। सरकार ने 31 मार्च 2022 तक 5.85 मिलियन अनौपचारिक रोजगार सृजित करने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

लाभार्थियों की सूची में महाराष्ट्र आया प्रथम चरण पर

श्रम और रोजगार राज्य मंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि महाराष्ट्र आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना (ABRY) के तहत सबसे अधिक लाभार्थियों वाले राज्यों की सूची में प्रथम स्थान पर है। महाराष्ट्र के बाद दूसरे स्थान पर गुजरात तीसरे स्थान पर तमिलनाडु चौथे स्थान पर कर्नाटक और पांचवे स्थान पर उत्तर प्रदेश पाया गया है। इस योजना के तहत 0.11 मिलियन का लक्ष्य निर्धारित किया गया था जिसमें से 4 दिसंबर 2021 तक कुल 2612.10 करोड़ लाभार्थी पाए गए हैं। प्रतिक्रिया के अनुसार महाराष्ट्र में 0.64 मिलियन लाभार्थी हैं, गुजरात में 0.44 मिलियन, तमिलनाडु में 0.53 मिलियन, कर्नाटक में 0.31 मिनियन तथा उत्तर प्रदेश में 0.27 मिलियन लाभार्थी उपलब्ध है।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का हुआ विस्तार

जैसे कि हम सभी जानते हैं कि केंद्र सरकार द्वारा देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने एवं पोस्ट कोविड-19 ब्रीफएस में रोजगार के सृजन बढ़ाने हेतु आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया था। पहले इस योजना के तहत आवेदन की अंतिम तिथि 30 जून 2021 थी। परंतु सरकार द्वारा स्थिति को बढ़ाकर 30 जून 2021 कर दिया गया है। वह सभी व्यक्ति जो इस योजना से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं वह जल्द से जल्द इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के द्वारा हाल ही में ही 

  • इस बात की जानकारी आधिकारिक ट्विटर हैंडल के माध्यम से प्रदान की गई है कि।
  • वह सभी व्यक्ति जो इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं वह 31 मार्च 2022 तक कर सकते हैं।

71.50 लाख कर्मचारियों को प्राप्त होगा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का लाभ

जैसे कि हम सभी जानते हैं वर्ष 2020 में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा प्रदान करने हेतु हमारी माननीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत पैकेज 3.0 के तहत आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया था। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को आरंभ करते समय सरकार द्वारा 58.5 लाख लाभार्थियों को लाभ पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था। परंतु श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा लोकसभा में बताया गया कि सरकार द्वारा अब इस लक्ष्य को बढा कर 71.50 लाख लाभार्थी कर दिया गया है। 12 जुलाई 2021 तक इस योजना के तहत लगभग 84,390 संस्थानों को 22.57 लाख रुपए का लाभ प्रदान किया गया है।

  • इस योजना के माध्यम से अब देश के लगभग 71.50 लाख लाभार्थियों को लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • ABRY के तहत दायरा बढ़ाने का मुख्य उद्देश्य है कि देश से बेरोजगारी दर को खत्म किया जा सके और रोजगार के विभिन्न अवसरों को पैदा किया जा सके।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का दायरा बढ़ा

देश में विभिन्न नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए हमारे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना को 1 अक्टूबर 2020 में आरंभ किया गया था। वित्त मंत्री द्वारा इस योजना को केवल एक अक्टूबर 2020 से लेकर 30 जून 2021 तक के लिए आरंभ किया गया था। परंतु हाल ही में ही हमारी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा 28 जून 2021 को Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana का दायरा बढ़ाकर 30 मार्च 2022 कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से विभिन्न युवाओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। सरकार द्वारा इस योजना के तहत प्रोत्साहन राशि कर्मचारी एवं नियोक्ता प्रोविडेंट फंड कंट्रीब्यूशन जमा करके किया जाएगा। यदि किसी संस्थान में 1000 से ज्यादा कर्मचारी है तो ऐसी स्थिति में सरकार द्वारा केवल कर्मचारियों का ही कॉन्ट्रिब्यूशन प्रदान किया जाएगा।

  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा कुल 22810 करोड रुपये की राशि का वाहन किया जाएगा।
  • 18 जून 2021 तक 79577 संस्थानों के 21.42 लाख लाभार्थियों को लगभग 902 करोड रुपये की राशि का भुगतान किया गया है।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के मुख्य तथ्य

इस योजना के तहत मुख्य तथ्य कुछ इस प्रकार है:-

योजना का नामआत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना 2022
किसके द्वारा शुरू की गईवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा
आरंभ तिथि12 नवंबर 2020
अंतिम तिथि30 जून 2021
योजना के लाभार्थीसंगठित क्षेत्र के कर्मचारी
योजना का उद्देश्यरोजगार के नए अवसर प्रदान करना
योजना का लाभदेश से बेरोजगारी दर को खत्म करना
योजना के कुल लाभार्थी58.5 लाख
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन/ ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइटhttps://www.epfindia.gov.in/site_en/index.php

21 लाख नए कर्मचारियों को मिला रोजगार

रोजगार के विभिन्न अवसरों को बढ़ावा देने हेतु हमारे देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से अब तक लगभग 21 लाख नए कर्मचारियों को रोजगार प्राप्त हुए हैं। और इन लाभार्थियों को रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा 22810 करोड रुपये का खर्च किया जा चुका है। साथ ही साथ सरकार द्वारा घोषणा की गई है कि कर्मचारियों के पास यूएएन नंबर होना अनिवार्य है। इस योजना का लाभ केवल उन्हें कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा जिनकी मासिक आय 15000 रुपये से कम है।

  • अगर किसी कर्मचारी की मासिक आय 15000 रुपये से कम है और वह ईपीएफओ का मेंबर है, तो उसे ABRY का लाभ तभी प्रदान किया जाएगा जब उसकी नौकरी 1 मई 2020 से लेकर 30 सितंबर 2020 के बीच मैं गई है।
  • साथ ही साथ इस बीच कोई भी कर्मचारी किसी ऐसी कंपनी से जुड़ा नहीं होना चाहिए जो ईपीएफओ के साथ रजिस्टर है।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार के तहत 16.5 लाख लाभार्थी हुए पंजीकृत

जैसे कि हम सभी जानते हैं कोरोनावायरस संक्रमण के कारण देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया है। Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana के अंतर्गत यदि कोई संगठन ने कर्मचारियों को रोजगार प्रदान करती है तो ऐसे में उसे सरकार द्वारा कर्मचारी भविष्य निधि का योगदान प्रदान किया जाएगा। इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि नियुक्त रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित और देश में रोजगार के अवसर बढ़े। श्रम मंत्री संतोष गंगवार द्वारा 17 मार्च 2021 को बताया गया कि इस योजना के तहत अब तक 16.5 लाख नागरिकों को लाभ पहुंचाया जा चुका है।

  • साथ ही साथ मंत्री द्वारा घोषणा की गई थी आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत 38.82 लाख कर्मचारियों को ईपीएफ खाते में 2567.66 करोड़ रुपए जमा किए गए।
  • नई पेंशन योजना में लगभग 1.13 लाख कर्मचारी योजना में और 2.03 लाख महिला कर्मचारी जुड़ी हैं।

|FAKE| प्रधानमंत्री बेरोजगारी भत्ता योजना

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत 10 लाख नौकरियों का लक्ष्य

इस योजना के तहत लॉकडाउन के दौरान नौकरियां प्रदान करने हेतु केंद्र सरकार द्वारा आत्म निर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया है। आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से ईपीएफओ द्वारा 24% की वेतन सब्सिडी प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा इस योजना के तहत 2 वर्षों में 10 लाख नौकरी पैदा करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसके लिए सरकार द्वारा लगभग 6000 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। सूत्रों के अनुसार लगभग अब तक 5 लाख से ज्यादा कंपनियां पंजीकरण किया है। ऑल इन कंपनियों द्वारा कर्मचारियों ने लगभग 1000000 नौकरियों का लक्ष्य निर्धारित किया है।

  • ABRY के माध्यम से लोक डाउन के समय जिन लोगों की नौकरी गई है उन्हें जल्द से जल्द नौकरी प्राप्त हो जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था ठीक होगी और कई सारे सेक्टरों की मांग बढ़ेगी।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का उद्देश्य

जैसे कि हम सभी जानते हैं वर्ष 2020 में कोरोनावायरस संक्रमण के कारण सरकार द्वारा देशभर में लॉक डाउन की प्रक्रिया को आरंभ किया गया था। और इस स्थिति के कारण संगठित क्षेत्र के विभिन्न कर्मचारियों की नौकरी चली गई थी। इसी बात को ध्यान में रखते हुए हमारी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से उन सभी लोगों को रोजगार के विभिन्न अवसर मुहैया कराए जाएंगे जिन्होंने कोरोना वायरस महामारी के कारण अपने रोजगार को गवाया है। इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि देश में रोजगार के अवसर को बढ़ावा दिया जाए और कर्मचारियों को उनकी नौकरी प्रदान की जाए।

  • इस योजना के माध्यम से देश के असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे,
  • एवं वह अपने परिवार का भरण पोषण आसानी से कर सकेंगे।
  • इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है यह देश से बेरोजगारी दर को खत्म किया जाए,
  • और देश की अर्थव्यवस्था में काफी सुधार पैदा किया जाए।
  • Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana निश्चित रूप से लोगों को रोजगार प्रदान करने के लिए एक सकारात्मक भूमिका निभाएगी।

Beneficiaries Of Atmanirbhar Bharat Yojana

इस योजना के तहत लाभार्थी सूची कुछ इस प्रकार है:-

  • इस योजना का लाभ उन्हीं कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा जिनकी वेतन ₹15000 से कम है,
  • और जो 1 अक्टूबर 2020 से किसी ए फॉर रजिस्टर्ड प्रतिष्ठान के नियुक्त हैं।
  • वह सभी कर्मचारी जिनके पास यूनिवर्सल अकाउंट नंबर उपलब्ध था और उनको ₹15000 से कम वेतन प्राप्त हो रही थी।
  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का लाभ उन कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा,
  • जिनके नौकरी कोरोनावायरस संक्रमण के कारण 1 मार्च 2020 से 30 मार्च 2020 के बीच चली गई है।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना का लाभ कैसे उठाएं

  • इस योजना का लाभ कर्मचारी और संस्थाओं दोनों को ही प्रदान किया जाएगा।
  • यदि लॉकडाउन के समय किसी ईपीएफओ के तहत रजिस्टर्ड संस्था ने रोजगार के अवसर बढ़ाए हैं तो उसे Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • कोई ऐसी संस्था जिनके करमचारी क्षमता केवल 50 है और उसी संस्था ने न्यूनतम 5 नए कर्मचारियों को रोजगार प्रदान किया है तो उसे ईपीएफओ के अंतर्गत पंजीकृत करना अनिवार्य है।
  • कोई ऐसी संस्था जिनकी क्षमता 50 से अधिक है और वह संस्थाएं दो या दो से अधिक कर्मचारियों को रोजगार प्रदान करती है तो उन कर्मचारियों को आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत पंजीकृत करवाया जाएगा।
  • वे सभी संस्थाएं जो आदमी घर पर भारत योजना का लाभ उठाना चाहती हैं उन्हें स्वयं ईपीएफओ के तहत पंजीकरण करवाना होगा।

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के लाभ

इस योजना के तहत लाभ निम्नलिखित हैं:-

  • इस योजना का लाभ देश के कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा।
  • वह सभी कर्मचारी जिनकी वेतन 15000 रुपये से कम है वह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।
  • Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana के माध्यम से देश के युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त होंगे।
  • सरकार द्वारा इस योजना का शुभारंभ देश की अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए किया गया है।
  • इससे ना केवल देश की अर्थव्यवस्था सुधरेगी बल्कि देश में विभिन्न रोजगार के अवसर पैदा होंगे।
  • इस योजना के माध्यम से देश में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा मिलेगा एवं रोजगार सृजन करने वाले व्यक्तियों को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना उन सभी कर्मचारियों के लिए शुरू की गई है जिन्होंने कोरोना काल समय नए संस्थानों में पंजीकरण किया है।
  • बस अभी संस्थान जिनमें 1000 से कम कर्मचारी हैं उन संस्थानों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • इन संस्थानों को 12% संस्थान का और 12% koकर्मचारी का हिस्सा कुल मिलाकर 24% हिस्सा केंद्र सरकार द्वारा ईपीएफओ के अंतर्गत जमा किया जाएगा ‌
  • मैं सभी संस्थाएं जिनमें कर्मचारी की क्षमता 1 हजार से अधिक है उन संस्थानों में कर्मचारियों के वेतन के अनुसार कर्मचारियों का रिश्ता यानी 12% भविष्य निधि में प्रदान किया जाएगा ‌
  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से देश में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा मिलेगा एवं देश की अर्थव्यवस्था में सुधार पैदा होगा।

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना

Features Of Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana

इस योजना के तहत विशेषताएं निम्नलिखित हैं:-

  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार की शुरुआत हमारे देश के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी के द्वारा 12 नवंबर 2020 को की गई।
  • इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि देश में युवाओं को रोजगार के अवसर मुहैया कराई जाएं।
  • आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था में काफी सुधार पैदा होगा।
  • केंद्र सरकार द्वारा देश में रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण कदम उठाया गया है।
  • वे सभी कर्मचारी जो असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं उन्हें इस योजना के तहत लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा इस योजना के तहत 2016 में 58.5 लाख लाभार्थियों को कवर करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था।
  • परंतु इस लक्ष्य को बढ़ा कर 71.80 लाख लाभार्थियों का कर दिया गया है।
  • इस योजनाओं के माध्यम से देश में नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • लॉकडाउन के समय नौकरी गंवाने वाले लोगों को इस योजना के तहत नौकरी प्राप्त होगी।
  • Atmanirbhar Bharat Rojgar Yojana के माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था में काफी सुधार आएगा।
  • और साथ ही साथ इस योजना के तहत कई सारे सेक्टरों को जोड़ा जाएगा।
  • इस योजना का लाभ न केवल देश के कर्मचारियों को प्रदान किया जाएगा बल्कि संस्थानों को भी प्रदान किया जाएगा जो ईपीएफओ के अंतर्गत रजिस्टर्ड है।
  • इस योजना के माध्यम से देश में रोजगार के अफसरों को बढ़ावा देने वाले लोगों को प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना के तहत लाभ उठाने के लिए आपको इस योजना के अंतर्गत पंजीकरण करना होगा।
  • पंजीकरण करने हेतु आप एम्पलाई प्रोविडेंट फंड की आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं।

प्रतिष्ठानों के लिए पात्रता

इस योजना के तहत पात्रता कुछ इस प्रकार है:-

  • वह सभी प्रस्थान जो ईपीएफओ के तहत पंजीकृत हैं और सितंबर 2020 तक में कर्मचारियों की नियुक्ति करते हैं उन्हें इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • जनों का लाभ स्थानों को तो प्रधान तक किया जाएगा जब वह संदर्भ आधार 50 कर्मचारी या उससे कम या उससे कम से कम 2 नए कर्मचारियों की नियुक्ति करते हैं।
  • वह सभी प्रस्थान जो संदर्भ आधार पर 50 कर्मचारी और उससे अधिक कर्मचारी की अवधि रखते हैं तो कम से कम 5 नए कर्मचारियों को नियुक्ति देते हैं तभी वह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

Important Documents Under ABRY

इस योजना के तहत महत्वपूर्ण दस्तावेज कुछ इस प्रकार हैं:-

  • आधार कार्ड
  • कर्मचारी का ईपीएफओ के अंतर्गत पंजीकरण
  • कर्मचारी वेतन 15000 रुपये तक

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

देश के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहती हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है

एंपलॉयर्स के आवेदन की प्रक्रिया

आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • वेबसाइट पर जाते ही आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Services के सेक्शन में देखना है।
  • यहां आपको For Employers के विकल्प पर क्लिक करना है।
आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको Services के सेक्शन में देखना है।
  • इस सेक्शन में आपको Online Registration Of Establishment के विकल्प पर क्लिक करना है।
आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • आपके सामने लॉगइन पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको Sign Up के विकल्प पर क्लिक करना है।
आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आएगा
  • इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी आपको ध्यान पूर्वक दर्ज करनी है जैसे Name, Email, Mobile Number तथा Captcha Code
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको Sign Up के विकल्प पर क्लिक करना है
  • इस प्रकार आप इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

एंप्लॉय की आवेदन प्रक्रिया

  • एंप्लॉय को आवेदन करने हेतु ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाते ही आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Services के सेक्शन में देखना है।
  • यहां आपको For Employees के विकल्प पर क्लिक करना है।
एंप्लॉय की आवेदन प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको Register Here के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आएगा।
  • इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी आपको दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप आवेदन कर पाएंगे।

ईपीएफओ ऑफिस लोकेट करने की प्रक्रिया

वह सभी व्यक्ति जो ईपीएफओ ऑफिस लोकेट करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है:-

  • ईपीएफओ ऑफिस लोकेट करने हेतु ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाते ही आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Services के सेक्शन में देखना है।
  • यहां आपको Locate An EPFO Office के विकल्प पर क्लिक करना है।
ईपीएफओ ऑफिस लोकेट करने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा
  • इस पेज पर आपको पूछी गई सभी जानकारी दर्ज करनी है जैसे State तथा District
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको Submit के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप ईपीएफओ ऑफिस लोकेट कर पाएंगे।

संपर्क विवरण देखने की प्रक्रिया

वह व्यक्ति जो संपर्क विवरण देखना चाहते हैं उन्हें निम्नलिखित चरणों का पालन करना है:-

  • संपर्क विवरण देखने हेतु आपको ईपीएफओ की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाते ही आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Directory के विकल्प पर क्लिक करना है।
संपर्क विवरण देखने की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको संपर्क विवरण प्राप्त हो जाएगा।

Contact Us

इस योजना के तहत टोल फ्री नंबर कुछ इस प्रकार है:-

  • Toll Free Number- 1800118005

Leave a Comment