|Registration| पीएम कुसुम योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन फॉर्म | लाभ व पात्रता

पीएम कुसुम योजना ऑनलाइन आवेदन | PM Kusum Yojana Application Online Form | कुसुम योजना रजिस्ट्रेशन | Pradhanmantri Kusum Yojana Apply Online |

राजस्थान के किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा पंप मुहैया कराने हेतु केंद्र सरकार एवं राजस्थान राज्य सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कौशल योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों के डीजल और पेट्रोल के पंपों को सोलर ऊर्जा पंपों में बदला जाएगा। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से पीएम कुसुम योजना 2022 से जुड़ी संपूर्ण जानकारी जैसे उद्देश्य लाभ विशेषताएं पात्रता एवं आवेदन की प्रक्रिया स्पष्ट करने जा रहे हैं। Kusum Yojana से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने हेतु हमारे इस लेख को अंत तक विस्तार पूर्वक पढे।

Table of Contents

PM Kusum Yojana 2022

इस योजना का शुभारंभ भारत के वित्तमंत्री श्री अरुण जेटली जी ने केंद्र सरकार के तहत किया है। केंद्र और राज्य सरकार दोनों मिलकर लगभग 3 करोड़ डीज़ल और पेट्रोल से चलने वाले सिंचाई पंपो को सोलर पंप में बदलेगी । क्योंकि सोलर पंप सूरज से मिलने वाली ऊर्जा से चलेंगे। PM Kusum Yojana राजस्थान के कृषको के लिए बहुत आवश्यक है । इस योजना के तहत सरकार कृषको को खेतों में सोलर पंप लगाने के लिये प्रोत्साहित करेगी । इस योजना के लिए सरकार ने शुरू में 50 करोड़ का बजट घोषित किया है।राजस्थान सरकार ने यह निर्णय लिया है कि आने वाले 10 सालों में 17.5 लाख डीज़ल पम्पो और 3 करोड़ खेती में उपयोग होने वाले पम्पस को सोलर पम्पस में बदलना है। 

  • इस योजना की शुरुआत का लक्ष्य कृषि के लिए सुविधा देना है ताकि कृषकों को कम बारिश के कारण फ़सल का नुकसान ना उठाना पड़े ।
  • पीएम कुसुम योजना की शुरुआत देश के किसानों को लाभ पहुंचाने के लिए शुरू की गई है।
पीएम कुसुम योजना

पीएम कुसुम योजना के मुख्य तथ्य

इस योजना के मुख्य तथ्य इस प्रकार हैं:-

योजना का नामप्रधानमंत्री कुसुम योजना 2022
किसके द्वारा शुरू की गईमुख्यमंत्री श्री अरुण जेटली के द्वारा शुरू की गई
योजना का उद्देश्यदेश के किसानों को सौर सिंचाई पाइप उपलब्ध करवाना
योजना का लाभदेश के किसानों को इसका बहुत लाभ प्राप्त होगा
योजना के लाभार्थीदेश के किसान
विभागकेंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा
योजना का बजट₹10000 करो रुपए
योजना का समय10 साल
हेल्पलाइन नंबर011-243600707, 011-24360404
अधिकारिक वेबसाइटClick Here

पीएम कुसुम योजना का मुख्य उद्देश्य 

इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश के किसानो को मुफ्त में बिजली उपलब्ध करवाना है। इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा दी जाती है। पीएम कुसुम योजना के जरिये किसान को दोहरा फायदा होगा और उनकी आमदनी में भी बढ़ोतरी होगी। दूसरा यदि किसान अधिक बिजली बनाकर ग्रिड को भेजते है। इस योजना के माध्यम से भारत में कई ऐसे राज्य हैं जहां सूखा पड़ता है और वहां खेती करने में किसानों की खेती को सूखे से नुकसान उठाना पड़ता है उन किसानों को अब घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब उनको को फ्री में बिजली प्रदान की जाएगी।

  • इस योजना के माध्यम से किसानों को मुफ्त में बिजली प्रदान की जाएगी।
  • केंद्र और राज्य सरकार दोनों मिलकर लगभग 3 करोड़ डीज़ल और पेट्रोल से चलने वाले सिंचाई पंपो को सोलर पंप में बदलेगी । 
  • Kusum Yojana के तहत पहले चरण में डीजल से चल रहे 17.5 लाख सिंचाई पंपों को सौर ऊर्जा से चलाया जाएगा।

15 मार्च 2022 तक कर सकते हैं कुसुम योजना में आवेदन

सरकार की ओर से अनुदान पर सोलर पंप सेट स्थापित कराने हेतु केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कुसुम योजना का शुभारंभ किया गया था। इस योजना के माध्यम से एसटीएससी श्रेणी के कृषकों को सोलर पंप सेट स्थापित करने हेतु अनुदान की राशि प्रदान की जाती है। पहले इस योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु कृषकों को 31 जनवरी 2022 तक आवेदन करना था। परंतु हाल ही में ही सहायक निदेशक द्वारा इस योजना के तहत आवेदन की तिथि को बढ़ा दिया गया है। वह सभी कृषक जो इस योजना के तहत आवेदन करने में असमर्थ रहे हैं तो वह 15 मार्च 2022 तक आवेदन जमा करवा सकते हैं।

28 फरवरी 2022 तक कर सकते हैं किसान आवेदन

जैसे कि हम सभी जानते हैं किसानों को सिंचाई का अच्छा माध्यम उपलब्ध कराने हेतु केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री कौशल योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों को सिंचाई के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाले सोलर पंप मुहैया कराए जाते हैं। किसानों को सौर ऊर्जा हम खरीदने के लिए कम से कम 30% लोन की सुविधा मुहैया कराई जाती है। देश के वह सभी किसान जो इस योजना का लाभ उठाना चाहते उन्हें 28 फरवरी 2022 से पहले पहले आवेदन करना होगा। क्योंकि केंद्र सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन की अंतिम तिथि 28 फरवरी निर्धारित की गई है। इस योजना के माध्यम से सोलर ऊर्जा उत्पादन करता किसान की बिजली खरीद 25 साल तक सुनिश्चित की गई है।

लीगल चार्ज के रूप में जमा करने होंगे 5600 रुपये, झूठ या सच?

विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत जमीन पर सोलर पंप लगवाने हेतु लीगल चार्ज के रूप में 5600 रुपये जमा करने की मांग की जा रही है। और साथ ही साथ रजिस्ट्रेशन के लिए भी 5000 रुपये की मांग हो रही है। इन सभी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है मैसेज की पड़ताल पीआईबी के द्वारा की गई और इस दावे को पूर्ण रूप से गलत पाया गया। रजिस्ट्रेशन फीस और सोलर पंप स्थापित करने की फीस की मांग करने वाला अप्रूवल लेटर पूर्ण रूप से फर्जी है। सरकार ने ऐसा कोई लेटर जारी नहीं किया है। आपसे निवेदन है कि ऐसे लुभावने ऑफर्स से हमेशा सावधान रहें और लापरवाही की वजह से खुद को ठगी का शिकार होने से बचाएं।

2 मेगावाट के सोलर प्लांट लगाने के लिए बैंकों से प्राप्त होगा ऋण

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा निर्देश दिए गए कि किसानों को पीएम कुसुम योजना के कंपोनेंट के तहत विकार व बंजर भूमि पर आधा किलो वाट से लेकर 2 मेगावाट तक सोलर प्लांट लगाने हेतु बैंकों से ऋण मुहैया कराया जाएगा। ‌ इसका निर्णय विद्युत भवन में तीन डिस्कम्स ऊर्जा विकास निगम, अक्षय ऊर्जा निगम, बागवानी विभाग एवं बैंकों के शीघ्र अधिकारियों के साथ बैठक में लिया गया। अधिकारियों द्वारा बताया गया कि इन सोलर संय पर उत्पादन बिजली को 3 रुपये 14 पैसे के दर पर 25 साल तक खरीदा जाएगा। जिससे किसानों की आमदनी अच्छी होगी एवं उन्हें किसी भी प्रकार के आर्थिक तंगी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

किसानों के लिए मील का पत्थर साबित हुई कुसुम योजना

हरियाणा के जिला उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार जी के द्वारा बताया गया कि प्रधानमंत्री कुसुम योजना किसानों की आय दोगुना करने में एक मील का पत्थर साबित हुई है। इस योजना के माध्यम से सौर ऊर्जा के प्रयोग से बिजली की काफी बचत बचत हुई है और इससे किसानों की आय में बढ़ोतरी हुई है। साथ ही साथ किसानों को सौर ऊर्जा के प्रति इस योजना के माध्यम से प्रोत्साहित किया जा रहा है। कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त मनोज कुमार जी के द्वारा बताया गया कि राज्य के 6 किसानों को सोलर वाटर पंप स्थापना सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया है।

हिमाचल में सौर पंप लगाने पर प्राप्त होगी 85% सहायता

सिंचाई के लिए व्यक्तिगत व सामुदायिक स्तर पर मशीनरी लगाने के लिए हिमाचल के छोटे किसानों को 85% की सहायता व बड़े वर्ग के किसानों को 80% की सहायता का प्रावधान रखा गया है। प्रधानमंत्री कुसुम योजना के अंतर्गत इन सभी किसानों को सिंचाई के लिए सहायता मुहैया कराई जाएगी। यदि आप ही यह सहायता प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। परंतु इसके आवेदन के लिए फर्जी वेबसाइट से बचने का प्रयास करें। साथ ही साथ अब आप अपने नजदीकी कृषि कार्यालय में जाकर भी इस योजना से संबंधित जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

415 किसानों को मिली 12 करोड़ की सब्सिडी

डीजल जनरेटर को समाप्त करने एवं शिक्षा के लिए अक्षय ऊर्जा के उपयोग को बढ़ावा देने हेतु केंद्र सरकार द्वारा पीएम कुसुम योजना का शुभारंभ किया गया था। पिछले 2 वर्षों में लगभग 415 किसानों को कुल 120000000 रुपये की सब्सिडी इस योजना के तहत मुहैया कराई गई हैं। अतिरिक्त उपायुक्त विश्राम कुमार मीणा जी के द्वारा कहा गया है कि यह योजना कृषि क्षेत्र में कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के अलावा सस्ती कीमत पर निर्बाध बिजली आपूर्ति भी सुनिश्चित करेगी। इस योजना के तहत मोदी सरकार कृषि उद्देश्यों के लिए सौर पंप खरीदने की सब्सिडी प्रदान करते हैं। किसान विभिन्न हॉर्स पावर के सौर पंप कम सीमा में प्राप्त कर सकते हैं।

20 लाख किसानों को केवल 10% लागत पर प्राप्त होंगे सोलर पंप

जैसे कि हम सभी जानते हैं कि देश में ऊर्जा की आपूर्ति और मांग के बीच बढ़ते अंतर को देखते हुए सरकार द्वारा पीएम कुसुम योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों के खेतों में मुफ्त में सोलर पंप लगाने की व्यवस्था की जाएगी। सरकार द्वारा इस योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया को आरंभ कर दिया गया है। इस योजना के तहत सरकार द्वारा 20 लाख किसानों को सोलर पंप मुहैया कराने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस योजना के माध्यम से किसानों को सिंचाई के लिए 90% की सब्सिडी पर सोलर पंप प्रदान किए जाएंगे। यानी के किसानों को केवल 10 फ़ीसदी का भुगतान करना होगा और वह अपने लिए सोलर पंप खरीदने में सक्षम रहेंगे।

20 लाख किसानों को मिलेगी मुफ्त में सोलर पंप की सुविधा


ऊर्जा की बढ़ती मांग और आपूर्ति को देखते हुए सरकार द्वारा देश के किसानों को मुफ्त में सोलर पंप की सुविधा प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। पीएम कुसुम योजना के माध्यम से देश के 20 लाख किसानों के खेत में मुफ्त में सोलर पंप लगवाने की व्यवस्था की जाएगी। इस व्यवस्था के लिए सरकार द्वारा ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया को शुरू कर दिया गया है। देश के वह सभी किसान जो यह व्यवस्था प्राप्त करना चाहते हैं उन्हें जल्द से जल्द आवेदन करना होगा। सोलर पंप का उपयोग करके वह अपने खेतों की सिंचाई अच्छे से कर सकते हैं और अतिरिक्त आमदनी घर बैठे ही प्राप्त कर सकते हैं।

Application Fees Under Kusum Yojana

इस योजना के माध्यम से उम्मीदवारों को सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदन के लिए 5000 प्रति मेगावाट और जीएसटी के दर से आवेदन शुल्क का भुगतान किया जाएगा। यह भुगतान प्रबंध निर्देशक राजस्थान अक्षय ऊर्जा निगम के नाम से डिमांड ड्राफ्ट के रूप में किया जाएगा। आवेदन करने के लिए 0.5 मेगावाट से लेकर 2 मेगावाट तक के लिए आवेदन शुल्क कुछ इस प्रकार है। पीएम कुसुम योजना के माध्यम से देश के किसानों को काफी लाभ पहुंचेगा जिससे उनकी कठिनाइयां भी दूर हो सकती हैं।

मेगा वाटआवेदन शुल्क
0.5 मेगावाट₹2500 + जीएसटी
1 मेगावाट₹ 5000 + जीएसटी
1.5 मेगावाट₹ 7500 + जीएसटी
2 मेगावाट₹ 10000 + जीएसटी

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत ऊर्जा की क्षमता

इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 18 फरवरी सन 2021 को की गई है। इस योजना के अंतर्गत सरकार का लक्ष्य कृषि क्षेत्रों में छोटे बिजली संयंत्र स्थापित करके 30 गीगावॉट सौर ऊर्जा क्षमता हासिल करना है। अब तक पीएम कुसुम योजना के माध्यम से 4 गीगावॉट ऊर्जा की क्षमता हासिल की गई है और जल्द 2.5 गीगावॉट की क्षमता को और जोड़ा जाएगा। योजना के माध्यम से अगले 1 से 1.5 साल में सरकार द्वारा इस योजना के माध्यम से 40 गीगावॉट सौर ऊर्जा उत्पादन किया जाएगा। यह सौर ऊर्जा उत्पादन रूफटॉप्स सौर परियोजनाओं के माध्यम से हासिल किया जाएगा। इस योजना के तहत किसानों को बहुत ज्यादा लाभ प्राप्त होगा ।

कुसुम योजना में लागत और आए

इस योजना के माध्यम से आने वाले समय में इस योजना के अंतर्गत लगभग 20 लाख किसानों को कवर किया जाएगा। इस योजना का लाभ उठाने के लिए किसानों को केवल 10% कुल लागत का भुगतान करना होगा। सरकार द्वारा 30% राशि किसानों को सब्सिडी के रूप में प्रदान की जाएगी तथा 30% राशि ऋण के रूप में किसानों को प्रदान की जाएगी। Kusum Yojana के माध्यम से सरकार द्वारा सन 2022 तक किसानों की आय में दोगुनी बढ़ोतरी हो जाएगी। 

प्रधानमंत्री कुसुम कृषि सोलर पंप योजना कि नई अपडेट

इस योजना के माध्यम से ऊर्जा मंत्रालय तथा केंद्र सरकार ने 13 नवंबर को इस योजना के दायरे को बढ़ा दिया है ताकि देश के लाखों किसान इस योजना का और अधिक लाभ प्राप्त कर सके। देश के किसानों को इस दायरे के अंतर्गत नया अल्टरनेट जारी किया जाएगा ताकि किसान भाई अपना बिजली संयंत्र शुरू कर सकें। ऊर्जा मंत्रालय की इस घोषणा का एक लाभ यह भी है कि अब योजना के अंतर्गत बंजर, परती, कृषि भूमि, चारागाह और दलदली भूमि पर भी सौर बिजली संयंत्र लगाए जा सकेंगे। अब इस योजना का लाभ छोटे किसान भाई भी उठा सकेंगे  क्योंकि राज्य सरकार छोटे किसानों की सहायता के लिए 500 किलोवाट के कम क्षमता वाले परियोजना की शुरुआत करने की मंजूरी दे सकती है।

कुसुम योजना के अंतर्गत सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापना की अवधि

इस योजना के तहत पंजीकरण करने के बाद संबंधित विभाग द्वारा एसपीजी को सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापना करने के लिए लेटर ऑफ ऑथराइजेशन शुरू कर दिया जाएगा। यह लेटर ऑफ ऑथराइजेशन शुरू करने की तिथि से 9 महा की अवधि में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करना जरूरी है। अगर इस अवधि में सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित नहीं करा गया तो पेनल्टी का भुगतान करना होगा। यह पेनल्टी पीपीए की नियमो के अनुसार ली जाएगी। पीपीए अवधि के दौरान सौर ऊर्जा संयंत्र के तहत लगभग 15% वार्षिक कैपेसिटी यूटिलाइजेशन फैक्टर बनवाये रखना आवश्यक है। और अगर कैपेसिटी यूटिलाइजेशन फैक्टर 15% से कम है तो इस स्थिति में क्षतिपूर्ति प्रदान करनी होगी।

कुसुम योजना 2022 पंजीकरण

कुसुम योजना के तहत ऑफलाइन तथा ऑनलाइन दोनों माध्यमों से पंजीकरण करवाया जा सकता है। पीएम कुसुम योजना के तहत सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना और जमीन लीज देने पर पंजीकरण कर सकते है। वे सभी पंजीकरण कर्ता जिन्होंने अपनी जमीन लीज पर देने के लिए पंजीकरण किया है उनकी लिस्ट आरआरईसी द्वारा ऑफिसियल वेबसाइट पर दिखा दी जाएगी। वह सभी लाभारती जो सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए भूमि लीज पर प्राप्त करना चाहते हैं वह आवेदकों की लिस्ट आरआरईसी की वेबसाइट से ले सकते है जिसके बाद वह पंजीकृत आवेदकों से संपर्क करके संयंत्र लगवाने के लिए पंजीकरण करवा सकते हैं।

Beneficiaries Of Kusum Yojana

इस योजना के तहत लाभार्थी सूची कुछ इस प्रकार है:-

  • किसान
  • किसानों का समूह
  • सहकारी समितियां
  • पंचायत
  • किसान उत्पादक संगठन
  • जल उपभोक्ता एसोसिएशन

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के कॉम्पोनेंट्स

इस योजना के कॉम्पोनेंट्स कुछ इस प्रकार है:-

  • सौर पंप वितरण: इस योजना के प्रथम स्टेप्स के दौरान केंद्र सरकार के विभागों के साथ मिलकर बिजली विभाग, सौर ऊर्जा संचालित पंप के सफल वितरण कर दिया जाएगा।
  • सौर ऊर्जा कारखाने का निर्माण: इस योजना का निर्माण कर दिया जाएगा जबकि पर्याप्त मात्रा में बिजली का उत्पादन करने की क्षमता रखते हैं।
  • ट्यूबवेल की स्थापना: सरकार द्वारा ट्यूबवेल की स्थापना की जाएगी जो कुछ निश्चित मात्रा में बिजली उत्पादन करेंगे।
  • वर्तमान पंपों का आधुनिकरण: वर्तमान पंपों का आधुनिकरण भी कर दिया जाएगा कथा पुराने पंपों को नए सौर पंपो से बदल दिया जाएगा।

कुसुम योजना के अंतर्गत भूमि की लीज

राजस्थान कुसुम योजना के माध्यम अगर सौर ऊर्जा संयंत्र की स्थापना विकासकर्ता द्वारा करी जाती है तो इस स्थिति में जमीन के मालिक और विकासकर्ता द्वारा लीज रेट किराया तय कर दिया जाएगा। इसके बाद विकासकर्ता को जमीन के मालिक को यह रेंट देना पड़ेगा। रेंट की राशि सीधे भूमि के मालिक के अकाउंट में भेजी जाएगी। यह रेंट रुपए प्रति एकड़ एवं भूमि से उत्पादित बिजली की रुपए प्रति यूनिट के रूप में निर्धारित कर दिया जाएगा। लीज रेंट विकासकर्ता एवं जमीन के मालिक द्वारा आपसी सहमति से निर्धारित करा जाएगा। अगर विकासकर्ता  लीज रेंट नहीं प्रदान किया जाता है तो वितरण निगम उक्त अनुबंध की कोई भी जिम्मेदारी नहीं रहेगी।

राजस्थान कुसुम योजना धरोहर राशि एवं प्रोजेक्ट निष्पादन सुरक्षा राशि

यदि इस योजना के तहत आवेदक द्वारा स्वयं की पूंजी से सौर ऊर्जा संयंत्र लगा दिया जाता है तो इस स्थिति में आवेदक द्वारा धरोहर राशि 100000 रुपये प्रति मेगावाट की दर से जमा करी जाएगी। यह राशि प्रबंध निर्देशक,  अध्यक्ष ऊर्जा निगम के पक्ष में एक डिमांड ड्राफ्ट एवं बैंक गारंटी के रूप में प्रदान करनी होगी। इस बैंक गारंटी की वैधता लगभग 6 महा होगी। सफल आवेदकों के पी पी ए साइन करने के 15 दिन बाद इस राशि को वापस दे दिया जाएगा। इसके अलावा सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने के लिए एसपीजी को 500000 रुपये प्रति मेगावाट की दर से प्रोजेक्ट निष्पादन सुरक्षा राशि जमा करनी पड़गी। 

  • यह राशि प्रबंधक निर्देशक अध्यक्ष निगम के पक्ष में बैंक गुरंटी के रूप में जमा की जाएगी। इस राशि की वैधता 15 महा होगी। 
  • इस राशि को प्रोजेक्ट चालू होने के 30 दिन बाद वापस कर दिया जाएगा।

Important Information Of Kusum Yojana

केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कुसुम योजना के विस्तार के साथ कुछ नए विचार तथा बदलावों पर सहमति जताई है। केंद्रीय बजट में पीएम कुसुम योजना में किये गए बदलावों का विवरण इस प्रकार है: –

  • अब किसानों को सोलर पंप लगवाने के लिए सिर्फ 10% राशि का ही भुगतान करना होगा।
  • यह सभी प्लांट बंजर अथवा कृषि हेतु अनुपयुक्त भूमि पर लगाए जायेंगे।
  • इसके साथ ही किसान बैंक से कुसुम योजना के तहत सोलर पंप लगवाने में 30% राशि बैंक से ऋण के रूप में प्राप्त कर सकेंगे।
  • केंद्र सरकार नए प्रस्ताव के बाद कुसुम योजना के तहत लगने वाले सोलर पंप पर कुल लागत का 60% रकम देगी।
  • सभी लाभार्थी किसानो को पंप की लागत की 60% सब्सिडी बैंक खाते के माध्यम से प्रदान की जाएगी।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना की कुल लागत

इस योजना के तहत कृषि को सिंचित करने वाले पंपों को सौर ऊर्जा के साथ चलने वाले पंप बनाया जाएगा। कुसुम योजना सूखे से प्रभावित राज्यों में किसानों के लिए फायदेमंद होगी, और इससे उनकी फसल का नुकसान कम होगा। कुसुम योजना के तहत 2022 तक 3 करोड़ सौर ऊर्जा संयंत्रों का लक्ष्य रखा गया है जिसकी स्थापना की कुल लागत (1.4 लाख करोड़ रुपये) का एक भाग (48 हजार करोड़ रुपये) केंद्र सरकार द्वारा दिया जायेगा और जबकि इतनी ही राशि राज्य सरकार देगी। किसानों को इस Kusum Yojana 2022 के तहत, कुल लागत के केवल 10 प्रतिशत भाग का भुगतान करना होगा, जबकि 48 हजार करोड़ का प्रावधान बैंक ऋण से किया जाएगा।

कुसुम योजना के लाभ

इस योजना के तहत लाभ कुछ इस प्रकार हैं:-

Step-1st
  • इस योजना का लाभ देश के सभी किसान उठा सकते हैं अपनी परेशानियों को भी दूर कर सकते हैं।
  • रियायती मूल्य पर सौर सिंचाई पाइप उपलब्ध कराना है।
  • कुसुम योजना के अंतर्गत 10 लाख ग्रिड से जुड़े कृषि पंपों का सोलराइजेशन ।
  • कुसुम योजना 2022 के तहत पहले चरण में डीजल से चल रहे 17.5 लाख सिंचाई पंपों को सौर ऊर्जा से चलाया जाएगा। जिससे डीजल खपत कम होगी।
  • अब खेतों को सिंचाई करने वाले पंप सौर ऊर्जा से चलेंगे किसानों की खेती में बढ़ावा होगा ।
  • अब खेतों को सिंचाई करने वाले पंप सौर ऊर्जा से चलेंगे किसानों की खेती में बढ़ावा होगा |
  • इस योजना से  मेगावाट अतिरिक्त बिजली का उत्पादन  होगा ।
  • इस योजना के  अंतर्गत सोलर पेनल लगाने के लिए सरकार की तरफ से किसानो को 60% केंद्र सरकार की तरफ से वित्तीय सहायता दी जायेगी व बैंक 30% लोन की  सहायता प्रदान करेगा और सिर्फ किसान को 10 फीसदी का भुगतान करना पड़ेगा।
  • Kusum Yojana का मुख्य उद्देश्य यह है कि जब किसानों को बिजली की आवश्यकता पड़ती है तो उनके पास बिजली नहीं होती इसी बात को ध्यान में रखते हुए इस योजना को शुरू किया गया है जिससे बिजली फ्री में किसानों को दी जाएगी।
Step-2nd
  • कुसुम योजना उन किसानो के लिए फायदेमंद होगी जहाँ के राज्य सूखाग्रस्त होगा व जहाँ  बिजली की समस्या रहती हो ।
  • सोलर प्लांट लगाने से 24 घंटे बिजली रहेगी जिसकी वजह से किसान अपने खेतो में आसानी से सिचाई कर सकते है ।
  • सोलर पेनल से जो अतिरिक्त  बिजली बनेगी किसान उस बिजली को सरकारी या गैर सरकारी बिजली विभागों में बेच सकता है जहाँ से किसान को 1 माह की  6000 रूपये की मदद मिल सकती है ।
  • कुसुम योजना के अंतर्गत जो भी सोलर पेनल लगाये जायेंगे वो बंजर भूमि में लगाये जायेंगे जिससे की बंजर भूमि का भी उपयोग हो जायेगा व बंजर भूमि से आय प्राप्त होगी।
  • इसी योजना के माध्यम से किसानों को काफी लाभ पहुंचेगा उनकी कठिनाई भी दूर होंगी।
  • प्रधानमंत्री कुसुम योजना में आवेदन करवाने के लिए आपको इसकी अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।

Features Of PM Kusum Yojana

आवेदन करना चाहते हेतु विशेषताएं को जिस प्रकार दे रखी हैं:-

  • केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गयी PM Kusum Yojana के माध्यम से किसानो की आय में वृद्धि होगी साथ ही वह सौर ऊर्जा और अक्षय ऊर्जा के प्रयोग से आत्मनिर्भर बन सकेंगे।
  • किसान इन सोलर पैनल के द्वारा बनने वाली अतिरिक्त बिजली की आपूर्ति ग्रिड को कर सकेंगे जिसे उन्हें अतिरिक्त आय प्राप्त होगी।
  • इस परियोजना में किसान को कुल लागत का 10% ही खर्च करना होगा। इसके आलावा 30% राशि बैंक द्वारा ऋण के माध्यम से तथा 60% राशि केंद्र सरकार द्वारा वहन की जाएगी।
  • किसान अपनी बंजर अथवा कृषि एक लिए अनुप्युक्त भूमि का इस्तेमाल सोलर पैनल के लिए कर सकेंगे।
  • केंद्र सरकार ने सौर ऊर्जा से चलने वाले 17.5 लाख सिंचाई पंपों को लगाने का लक्ष्य रखा है जिससे गरीब किसानो की सिंचाई सम्बन्धी परिशानिया ख़त्म हो जाएँगी।
  • इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई के लिए सोलर पैनल की सुविधा दी जाती है।
  • कुसुम योजना के जरिये किसान को दोहरा फायदा होगा और उनकी आमदनी में भी बढ़ोतरी होगी। 
  • दूसरा यदि किसान अधिक बिजली बनाकर ग्रिड को भेजते है।

प्रधानमंत्री कुसुम योजना की पात्रता

इस योजना की पात्रता इस प्रकार दे रखी है:-

  • उम्मीदवारों को राजस्थान का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • कुसुम योजना के अंतर्गत 0.5 मेगावाट से 2 मेगावाट क्षमता तक के सौर ऊर्जा संयंत्र के लिए आवेदक द्वारा आवेदन किया जा सकता है।
  • आवेदक द्वारा अपनी भूमि के अनुपात में 2 मेगावाट क्षमता या फिर वितरण निगम द्वारा अधिसूचित क्षमता (दोनों में से जो भी कम हो) के लिए आवेदन कर सकता है।
  • प्रति मेगावाट के लिए लगभग 2 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत स्वयं के निवेश से प्रोजेक्ट के लिए किसी भी प्रकार की वित्तीय योग्यता की आवश्यकता नहीं है।
  • यदि आवेदक द्वारा किसी विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित किया जा रहा है तो विकासकर्ता की नेटवर्थ 1 करोड़ रुपए प्रति मेगावाट होनी अनिवार्य है।

Important Documents Of Pradhanmantri Kusum Yojana 2022

इस योजना के महत्वपूर्ण दस्तावेज निम्नलिखित हैं:-

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • मोबाइल नंबर
  • आवेदक का पता
  • बैंक खाता विवरण
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • रेजिस्ट्रेशन की कॉपी
  • ऑथराइजेशन लेटर
  • जमीन की जमाबंदी की कॉपी
  • चार्टर्ड अकाउंटेंट द्वारा जारी नेटवर्थ सर्टिफिकेट (विकासकर्ता के माध्यम से प्रोजेक्ट विकसित करने की स्थिति में)।

राजस्थान कुसुम योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हेतू वह नीचे दिए गए चरणों का पालन करें:-

राजस्थान कुसुम योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया
  • इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होमपेज खुलकर आ जाएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Online Registration का विकल्प दिखाई देगा इस विकल्प पर क्लिक करें।
  • इसके बाद आवेदन फॉर्म में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी दी श्री नाम पता आधार कार्ड नंबर मोबाइल नंबर आदि सभी चीजें दर्ज करनी होंगी।
  • सभी जानकारी भरने के बाद आखिर में समिति के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद पंजीकरण के बाद आपको चयनित लाभार्थियों को सौर पंप सेट की 10% लागत विभाग द्वारा अनुमोदित आपूर्तिकर्ताओं को जमा करने के लिए निर्देशित किया जाता है।
  • इसके बाद कुछ ही दिनों में अपने खेतो में सोलर पम्प लगा दिए जायेगे ।

उत्तर प्रदेश कुसुम योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के सभी लाभार्थी जो इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है:-

उत्तर प्रदेश कुसुम योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको Programme के सेक्शन पर क्लिक करना है।
  • यहां आपको Solar Energy Program के विकल्प पर क्लिक करना है।
उत्तर प्रदेश कुसुम योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको Kusum Yojana के विकल्प पर क्लिक करना है।
उत्तर प्रदेश कुसुम योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुलकर आएगा।
  • इस पेज पर आपको पंजीकरण फॉर्म के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी आपको दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको रजिस्टर के विकल्प पर क्लिक करना है ‌
  • इस प्रकार आप इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

Apply Online For Kusum Yojana Maharashtra

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है:-

Apply Online For Kusum Yojana Maharashtra
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको कुसुम योजना आवेदन के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने आवेदन पत्र खुलकर आएगा।
  • इस पत्र में पूछी गई सभी जानकारी आपको ध्यान पूर्वक दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको अपने दस्तावेज अटैच करने हैं।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

हरियाणा कुसुम योजना के तहत आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है:-

  • आवेदन करने हेतु आपको हरियाणा कुसुम योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको कुसुम योजना के लिए आवेदन करें के विकल्प पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आपके सामने आवेदन पत्र खुलकर आएगा।
  • इस पत्र में पूछी गई सभी जानकारी आपको ध्यान पूर्वक दर्ज करनी है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको महत्वपूर्ण दस्तावेज अटैच करने हैं।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना है।
  • इस प्रकार आप इस योजना के तहत आवेदन कर सकते हैं।

Contact information

मोबाइल नंबर टोल फ्री नंबर और ईमेल आईडी कुछ इस प्रकार दे रखी है :-

Leave a Comment